आपके रसोई में भरा पड़ा है स्वास्थ्य का खजाना

रसोई में मिलने वाली कई ऐसी चीजें हैं जिन्हें हम औषधि के रूप में प्रयोग कर सकते हैं। आज हम यहां आपको कुछ इस ऐसी ही वस्तुओं के बारे में बता रहे हैं जिन्हें आप जरूरत पड़ने पर दवाई के रूप में प्रयोग में ला सकते हैं।

हींग

यह कफ और वात की समस्या को दूर करती है। इसके अलावा आयुर्वेद में अग्निमंद, पेट का दर्द और पेट के कीड़ों के मामलों में भी इसका उपयोग बताया गया है।

जीरा

यह भी कफ और वात की समस्या को दूर करता है। अरुचि, उल्टी, अग्निमंद, अजीर्ण, पेट के दर्द और कई अन्य रोगों में भी इसका प्रयोग किया जाता है।

मेथी

यह वात की समस्या को दूर करती है। मधुमेह में मेथी का चूर्ण बेहद लाभकारी होता है।

सौंफ

यह वात और पित्त से जुड़ी समस्याओं को दूर करती है। उल्टी, अग्निमंद और अजीर्ण में इसका प्रयोग किया जाता है।

काली मिर्च

यह वात और कफ से जुड़ी समस्याओं का समाधान करती है। खांसी और सांस से संबंधित बीमारियों में यह बहुत उपयोगी होती है।

प्याज

प्याज भी कफ और वात शामक है। यह दातों को मजबूत करती है।

छोटी इलायची

इसका उपयोग मुंह की दुर्गन्ध खत्म करने तथा पाचन क्रिया तेज करने में किया जाता है।

हल्दी

यह वात, पित्त और कफ तीनों दोषों से उत्पन्न विकारों में प्रयुक्त होती है।

लौंग

लौंग का प्रयोग यह कफ और पित्त जन्य विकारों में होता है। मुख, दंत और कंठ रोगों में यह बेहद लाभकारी है।